top of page

The solution to all problems: Natural Farming / सभी समस्याओं का समाधान: प्राकृतिक खेती

Updated: Jan 18, 2023

Yesterday in our Kusumagraj's Pustak Peti (Book Club) meeting, I got to listen to Heramb Kulkarni sir, who, after his intense research pointed out the miseries of the farmers and their family members. The situation is so grave and serious that several farmers can't bear it and they commit suicide. Apart from the financial difficulties, the boys of farmers who are into farming are not getting girls to marry. In one small village there were 750 farmer boys all in marriageable age and not getting a bride. The girls are less and so they have an opportunity to choose. The girls of the farmers have seen their farmer father struggle and in pain and suffering. She obviously didn't want her husband to be a farmer because of the image she had of her farmer father and so she doesn't choose to marry a farmer boy and stay in the village. The situation of the farmer is really gloomy.


But on the other hand, we have so many people who have left their corporate successful jobs and who have settled in a natural surrounding and who are practicing natural farming and leading a natural peaceful life. Some of my very close friends and associates are out of them and i stayed with them for months and experienced the natural life.


Four Years ago i had gone to Narmada Parikrama on foot alone without carrying any money. That was an exposure to natural living, where we had to take a bath in the Narmada river and use no chemicals, no soaps and no shampoos.


Then, last year this time i was in Kadaya, Gir, Gujarat. I was the architect of the natural building being built with natural materials without the use of cement and other artificial materials at Geet-Govind, in Kadaya. I have been studying and researching on Energy and it has led me from artificial things and surroundings to the natural ones. Kadaya is a small village in Gir forest where the nearest place to buy vegetables was 40 kms away. The only option was to grow the daily vegetables on the farms. Here on the farms there was just one hut of one room. It was a geodesic dome structure made of bamboo, mud & grass, measuring less than 90 sq.ft. We 5 people stayed in the same room. Apart from this one room, there was no other room, not even a toilet or bathroom. The kitchen was in the open verandah. And luckily my leg's ligament got damaged and i had to stay there. There was no family member with me which i was used to as for almost 10 years i was staying alone after my kids were abducted from me, and still all friends were more than family. They took care of me and i got to experience the natural stay in spite of the odds. Thus, i say i was lucky as I always loved to be in nature and got a nice opportunity to experience natural living. After this stay, I am more firm on leading a natural life and my search for a land to be able to lead such a life has intensified. When i told about my this plan during my sessions, there have been several people who vocalized their wish to do the same and few also said that they will also buy land along with me and that i should be involving them.


So now, the question is why this huge irony and difference. On one hand, the farmer and his family are in pain and suffering so much so that the farmers are committing suicide. And on the other hand, there are successful people who want to be a farmer and want to lead a natural farmers life.


The answer to the above biggest question, lies in the way of farming and the mindset behind it. Today, the majority of the farmers are into conventional farming, which is based on the use of chemicals to kill the pests and insects to save the crop and use of chemical fertilizer to make its visual appearance pleasing because today his customer buys seeing the big size. Because farmer is not practicing natural farming and because he is into a chemical based farming spraying pesticides and insecticides and killing the pests and insects so that comes back to him. This is the law of the universe and our Karmic law, that what we give comes back to us. When we use anything to kill other microorganisms, in turn, it returns and comes back to us.


Hebrews 6:10: “God is not unjust; he will not forget your work and the love you have shown him as you have helped his people and continue to help them.” Hebrews 13:16: “And do not forget to do good and to share with others, for with such sacrifices God is pleased.”


Luke 6:38 TPT - Bible: Give generously and generous gifts will be given back to you, shaken down to make room for more. Abundant gifts will pour out upon you with such an overflowing measure that it will run over the top! The measurement of your generosity becomes the measurement of your return.”


Of course, the farmer only is not responsible for this, but the customers who are buying the chemical products are more responsible. As a customer, we should be aware and shift to buying natural products.


The answer is in the way of farming. If we see the jungles, who goes to water the plants in the jungle. No one. And still how well the plants survive there, naturally. The reason is because no one is interfering in a negative way and Nature has a self-sustaining way and a way to support each other. Gaia theory states that all living organisms interact with their surroundings to form a synergistic and self-regulating system to maintain a proper balanced situation on the planet. In the jungles, this is exactly what happens. No one sprays chemicals there and the system is built to balance the ecosystem there.


The solution is natural farming where you coexists with nature, when you are one with nature, when you enjoy with nature, when you support the nature and nature supports you. You give to the nature and nature gives you back in abundance. And that becomes such a lovely & wonderful life. I hope the farmers understand this soon and save their sons and their daughters and they save mankind also by providing satvik and chemical free food. And it also is the responsibility of the consumer to give that little bit extra money for the natural and chemical free food to encourage the farmer for natural and chemical free farming and also for own well-being.


i remember a verse in Bhagwad Geeta, chapter 3, verse no, 11:

देवान्भावयतानेन ते देवा भावयन्तु व: | परस्परं भावयन्त: श्रेय: परमवाप्स्यथ || 11||

devān bhāvayatānena te devā bhāvayantu vaḥ parasparaṁ bhāvayantaḥ śhreyaḥ param avāpsyatha

Means that you give to the God and He will give you too. And by mutual cooperation, great prosperity will reign for all.


Today the vegetables and fruits that we eat are all sprayed with chemicals which make the food tamsik and which in turn builds our tamogun which in turn governs our thoughts, behavior, actions and mindset. The farmers spray the chemicals, either to kill the insects/pests or a chemical fertilizer to get bigger and better yield. Due to the use of the chemicals, the EC (electrical conductivity), PH (potential of Hydrogen) and TDS (total dissolve salt) balance is disturbed & it is destroying and harming our Mother Earth slowly and slowly. Most importantly, every next time the farmer will need to spray more and more chemicals which will increase his debt cost of producing but his returns doesn't increase. The poor farmer finds the only option left of suicide mostly. Natural farming is the solution for all these problems.


Here, apart from the problems of the farmer, let us also look at the problems of the mankind who is eating the products grown and supplied by the farmer.


Let's try to take the reference of the verse from Bhagwad Geeta chap 17, verse 7:

Aaharstwapi sarwasya trividho bhavati priyah


It means, as your aahar (food) is, so you will be. Means if we start taking Satvik food, we will transform to Satgun from Tamgun to Rajgun. And mind well, food is not just we eat through our mouth. But food means what we give to our body through all our senses. What we hear through our ears, what we smell through our nose, what touches us and we breathe through our skin and what air we breathe is all our food. And what we eat, that we become.


Natural farming seems to be the solution to all problems.


Your comments and suggestions are all welcome when the intention is to make world better and not to debate.



Love and light,

Manjushree Rathi

Director, ME Holistic Centre


 

सभी समस्याओं का समाधान: प्राकृतिक खेती


कल हमारे कुसुमाग्रज के पुस्तक पेटी (बुक क्लब) की मीटिंग में हेरम्ब कुलकर्णी सर को सुनने का मौका मिला, जिन्होंने गहन शोध के बाद किसानों और उनके परिवार के सदस्यों की पीड़ा को इंगित किया। स्थिति इतनी गंभीर है कि कई किसान इसे सहन नहीं कर पाते और वे आत्महत्या कर लेते हैं। आर्थिक तंगी के अलावा खेती करने वाले किसानों के लड़कों की शादी के लिए लड़कियां नहीं मिल रही हैं। एक छोटे से गाँव में 750 किसान लड़के विवाह योग्य उम्र के थे और उन्हें दुल्हन नहीं मिल रही। लड़कियां कम हैं और इसलिए उन्हें चुनने का मौका मिला है। किसानों की बच्चियों ने अपने किसान पिता को संघर्ष करते देखा है, दर्द सहते देखा है। वह स्पष्ट रूप से अपने किसान पिता की छवि के कारण अपने पति को किसान नहीं बनाना चाहती थी और इसलिए वह एक किसान लड़के से शादी करने और गाँव में रहने का विकल्प नहीं चुनती। किसान की स्थिति वास्तव में दयनीय है।


लेकिन दूसरी ओर, हमा ऐसे बहुत से लोगों को जानते हैं जिन्होंने अपनी कॉर्पोरेट सफल नौकरी छोड़ दी है और जो प्राकृतिक परिवेश में बस गए हैं और जो प्राकृतिक खेती कर रहे हैं और प्राकृतिक शांतिपूर्ण जीवन भी जी रहे हैं। मेरे कुछ बहुत करीबी दोस्तों और सहयोगी उनमें से हैं और मैं महीनों तक उनके साथ रही और प्राकृतिक जीवन का अनुभव किया।


4 साल पहले मैं बिना पैसे लिए अकेले पैदल ही नर्मदा परिक्रमा करने गई थी | यह प्राकृतिक जीवन का एक अनुभव था, जहां हमें नर्मदा नदी में स्नान करना होता था और कोई रसायन, साबुन और शैंपू का उपयोग नहीं करना होता था।


फिर, पिछले साल इस वक्त मैं कड़ाया, गिर, गुजरात में थी । कडाया के गीतगोविंद में सीमेंट और अन्य कृत्रिम सामग्रियों के उपयोग के बिना प्राकृतिक सामग्री के साथ बनाए जा रहे प्राकृतिक भवन की मैं वास्तुकार थी । मैं ऊर्जा पर अध्ययन और शोध कर रही हूं और इसने मुझे कृत्रिम चीजों और परिवेश से प्राकृतिक चीजों तक पहुंचाया है। कडाया गिर के जंगल में एक छोटा सा गाँव है जहाँ सब्ज़ियाँ खरीदने की सबसे नज़दीकी जगह 40 किमी दूर थी। खेतों में रोजाना सब्जियां उगाना ही एकमात्र विकल्प था।

यहां खेतों पर एक ही झोपड़ी थी। यह बांस, मिट्टी और घास से बनी जियोडेसिक गुंबद की संरचना थी, जिसका माप 90 वर्ग फुट से कम था। हम 5 लोग एक ही कमरे में रुके थे। इस एक कमरे के अलावा और कोई कमरा नहीं था, यहाँ तक कि शौचालय या स्नानागार भी नहीं था। किचन खुले बरामदे में था। और सौभाग्य से मेरे पैर का लिगामेंट खराब हो गया और मुझे वहीं रहना पड़ा। मेरे साथ परिवार का कोई भी सदस्य नहीं था जिसकी मुझे आदत थी क्योंकि मेरे बच्चों का मुझसे अपहरण किए जाने के बाद लगभग 10 वर्षों तक मैं अकेली रह रही थी, और सभी दोस्त परिवार से बढ़कर थे। उन्होंने मेरी देखभाल की और बाधाओं के बावजूद मुझे प्राकृतिक प्रवास का बहुत बढ़िया अनुभव मिला। इस प्रकार, मैं कहती हूं कि मैं भाग्यशाली थी क्योंकि मुझे हमेशा प्रकृति में रहना पसंद था और मुझे प्राकृतिक जीवन का अनुभव करने का अच्छा अवसर मिला। इस प्रवास के बाद, मैं प्राकृतिक जीवन जीने के लिए और अधिक दृढ़ हो गई हूँ और ऐसा जीवन जीने के लिए मेरी तलाश तेज हो गई है। जब मैंने अपने सत्रों के दौरान अपनी इस योजना के बारे में बताया, तो कई लोगों ने ऐसा करने की इच्छा व्यक्त की और कुछ ने यह भी कहा कि वे भी मेरे साथ जमीन खरीदेंगे और मुझे उन्हें शामिल करना चाहिए। तो अब, प्रश्न यही बड़ी विडंबना और अंतर है, तो ये क्यू? एक तरफ किसान और उसका परिवार इस कदर पीड़ा में है कि किसान आत्महत्या कर रहे हैं। और दूसरी ओर, सफल लोग हैं जो किसान बनना चाहते हैं और प्राकृतिक किसान जीवन जीना चाहते हैं।


उपरोक्त सबसे बड़े प्रश्न का उत्तर, खेती के तरीके और उसके पीछे की मानसिकता में निहित है। आज, अधिकांश किसान पारंपरिक खेती में हैं, जो कि फसलों को बचाने के लिए कीटों और कीड़ों को मारने के लिए रसायनों के उपयोग पर आधारित है और रासायनिक उर्वरकों के उपयोग से इसकी दृश्यता को सुखद बनाने के लिए उपयोग किया जाता है क्योंकि आज उनका ग्राहक बड़ा आकार देखकर खरीदता है . क्योंकि किसान प्राकृतिक खेती का अभ्यास नहीं कर रहा है और क्योंकि वह एक रासायनिक आधारित खेती में कीटनाशकों और कीटनाशकों का छिड़काव करता है और कीटों और कीड़ों को मारता है ताकि वह उसके पास वापस आ जाए। यह ब्रह्मांड का नियम है और हमारा कर्म नियम है कि हम जो देते हैं वही वापस हमारे पास आता है। जब हम अन्य सूक्ष्मजीवों को मारने के लिए किसी भी चीज का उपयोग करते हैं, तो बदले में वह लौटकर हमारे पास वापस आ जाता है।


इब्रानियों 6:10: “ईश्वर अन्यायी नहीं; वह आपके काम को और उस प्यार को नहीं भूलेगा जो आपने उसे दिखाया है क्योंकि आपने उसके लोगों की मदद की है और उनकी मदद करना जारी रखा है।” इब्रानियों 13:16: "और भलाई करना और दूसरों को बांटना न भूलना, क्योंकि परमेश्वर ऐसे बलिदानों से प्रसन्न होता है।"


ल्यूक 6:38 टीपीटी - बाइबिल: उदारता से दें और उदार उपहार आपको वापस दिए जाएंगे, और अधिक के लिए जगह बनाने के लिए हिलाया जाएगा। प्रचुर मात्रा में उपहार आप पर ऐसे उमड़ते हुए माप के साथ बरसेंगे कि यह ऊपर से बह जाएगा! आपकी उदारता का माप आपके रिटर्न का माप बन जाता है।


बेशक इसके लिए केवल किसान ही जिम्मेदार नहीं है बल्कि रासायनिक उत्पाद खरीदने वाले ग्राहक ज्यादा जिम्मेदार हैं। एक ग्राहक के रूप में हमें जागरूक होना चाहिए और प्राकृतिक उत्पादों को खरीदना चाहिए।


जवाब है खेती के रास्ते में। यदि हम जंगलों को देखें तो जंगल में पौधों को पानी देने कौन जाता है? कोई नहीं। और फिर भी, स्वाभाविक रूप से पौधे वहां कितनी अच्छी तरह जीवित रहते हैं। इसका कारण यह है कि कोई भी नकारात्मक तरीके से हस्तक्षेप नहीं कर रहा है और प्रकृति के पास एक आत्मनिर्भर तरीका है और एक दूसरे का समर्थन करने का एक तरीका है। GAIA सिद्धांत कहता है कि ग्रह पर एक उचित संतुलित स्थिति बनाए रखने के लिए सभी जीवित जीव एक सहक्रियात्मक और स्व-विनियमन प्रणाली बनाने के लिए अपने परिवेश के साथ बातचीत करते हैं। जंगलों में ठीक ऐसा ही होता है। वहां कोई केमिकल का छिड़काव नहीं करता और वहां के इकोसिस्टम को बैलेंस करने के लिए सिस्टम बनाया गया है।


समाधान प्राकृतिक खेती है जहां आप प्रकृति के साथ सह-अस्तित्व रखते हैं, जब आप प्रकृति के साथ एक होते हैं, जब आप प्रकृति के साथ आनंद लेते हैं, जब आप प्रकृति का समर्थन करते हैं और प्रकृति आपका समर्थन करती है। आप प्रकृति को देते हैं और प्रकृति आपको बहुतायत में वापस देती है। और वह इतना प्यारा अद्भुत जीवन बन जाता है। मुझे उम्मीद है कि किसान इसे जल्द ही समझेंगे और अपने बेटे-बेटियों को बचाएंगे और वे सात्विक और रसायन मुक्त भोजन देकर मानव जाति को भी बचाएंगे। और यह भी उपभोक्ता की जिम्मेदारी है कि किसान को प्राकृतिक और रसायन मुक्त खेती के लिए प्रोत्साहित करने के लिए और खुद की भलाई के लिए प्राकृतिक और रसायन मुक्त भोजन के लिए वह थोड़ा अतिरिक्त पैसा दे।


मुझे भगवद् गीता का एक श्लोक, अध्याय 3, श्लोक संख्या, 11 याद आता है:

देवान्भावयतानेन ते देवा भावयन्तु व: |

परस्पर भयन्त: श्रेय: परमवापस्यथ || 11||

यानी आप भगवान को देते हैं और वह आपको भी देंगे। और आपसी सहयोग से सभी के लिए महान समृद्धि का राज्य होगा।


आज हम जो भी सब्जियां और फल खाते हैं उन पर रसायनों का छिड़काव किया जाता है जो भोजन को तामसिक बनाते हैं और जो बदले में हमारे तमोगुण का निर्माण करते हैं जो हमारे विचारों, व्यवहार, कार्यों और मानसिकता को नियंत्रित करता है। किसान बड़े और बेहतर उपज प्राप्त करने के लिए या तो कीड़ों/कीड़ों को मारने के लिए या रासायनिक उर्वरक का छिड़काव करते हैं। रसायनों के उपयोग के कारण, EC (विद्युत चालकता), PH (हाइड्रोजन की क्षमता) और TDS (कुल घुलित नमक ) संतुलन बिगड़ जाता है और यह हमारी धरती माता को धीरे-धीरे नष्ट और नुकसान पहुँचा रहा है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हर बार किसान को अधिक से अधिक रसायनों का छिड़काव करने की आवश्यकता होगी जिससे उसकी उत्पादन की ऋण लागत बढ़ जाएगी लेकिन उसका रिटर्न नहीं बढ़ेगा। गरीब किसान के पास ज्यादातर आत्महत्या का ही विकल्प बचता है। इन सभी समस्याओं का समाधान प्राकृतिक खेती है।


यहां किसान की समस्याओं के अलावा हम उस मानव जाति की समस्याओं पर भी नजर डालते हैं जो किसान द्वारा उगाए गए और आपूर्ति किए गए उत्पादों को खा रही है।


भगवद् गीता अध्याय 17, श्लोक 7 से श्लोक का संदर्भ लेने का प्रयास करें :

आहारस्वपि सर्वस्य त्रिविधो भवति प्रियः

यानी जैसा आपका आहार होगा, वैसे ही आप होंगे। यानी अगर हम सात्विक भोजन करना शुरू कर देंगे तो हम तमगुण से रजगुण में सतगुण में बदल जाएंगे। और अच्छी तरह से याद रखें, खाना सिर्फ हम अपने मुंह से नहीं खाते हैं। लेकिन भोजन का मतलब है कि हम अपनी सभी इंद्रियों से अपने शरीर को क्या देते हैं। हम अपने कानों से क्या सुनते हैं, हम अपनी नाक से क्या सूंघते हैं, क्या छूते हैं और हम अपनी त्वचा से सांस लेते हैं और हम किस हवा में सांस लेते हैं, यह सब हमारा भोजन है। और हम जो खाते हैं, वही बनते हैं।


प्राकृतिक खेती सभी समस्याओं का समाधान प्रतीत होती है।


आपकी टिप्पणियों और सुझावों का स्वागत है जब इरादा दुनिया को बेहतर बनाने का हो न कि बहस करने का।


प्यार और रौशनी,

मंजुश्री राठी

निदेशक, एमई होलिस्टिक सेंटर






132 views0 comments

Recent Posts

See All

Comentarios


bottom of page